banner

हमारे बारे में

स्वर्गीय श्री नेतराम सिंह

पूर्व विधायक, कासगंज

सन् 1957 में प्रधान पद पर निर्वाचित हुए और लगातार सन् 1969 तक प्रधान पद पर रहते हुये सन् 1969 में जन संघ से विधान सभा चुनाव विधान सभा कासगंज से पहलीवार विधायक निर्वाचित होकर विधान सभा पहुऐ और सन् 1975 में आपातकाल में मीसा और D.G.R. में जेल गये। उसके बाद सन् 1978 में जनता पार्टी से विधान सभा चुनाव जीतकर विधायक निर्वाचित हुए और सन् 1980 में भारतीय जनता पार्टी से विधायक चुने गये और भारतीय जनता पार्टी जनपद-एटा के जिलाध्यक्ष पर निर्वाचित हुए

सन् 1985 में एटा लोक सभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी से चुनाव लड़े और कम मतों से लोकदल के प्रत्याशी महफूज अली से चुनाव हारे और रामजन्म भूमि आन्दोलन के दौरान मं भी जेल गये।

1996 में भारतीय जनता पार्टी से विधान सभा चुनाव जीत कर विधान सभा पहुंचे और राम मन्दिर आन्दोलन के दौरान 6 दिसम्बर सन् 1994 को कारसेव में अयोध्या गये और 1994 में भा0ज0पा0 के प्रत्याशी बने और केन्द्रीय नेत्वृ भारतीय जनता पार्टी के द्वारा कल्याण सिंह के लिए पार्टी के निर्देशानुसार अपने स्थान पर पूरे मन से मा0 कल्याण सिंह को सीट छोडकर चुनाव लडाया व भारी मतों में चुनाव जिताया। मा0 कल्याण सिंह दो जगह अतरौली व कासगंज से चुनाव जीतने के बाद कासगंज विधान सभा से इस्तीफ दिया और उपचुनाव में पार्टी निर्देशानुसार श्री रामस्वरूप् वमा को भारतीय जनता पार्टी का टिकिट दिया गया, जिन्हें दुबारा इस चुनाव में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी श्री गोवर्धन जो सगे भाई को चुनाव हटाकर पार्टी प्रत्याशी श्री रामस्वरूप् वर्मा को पूरे तन-मन-धन से चुनाव लडाकर चुनाव जिताया और अन्त में सन् 1996 में पुनः भारतीय जनता पार्टी ने निष्ठा व ईमानदारी पार्टी की वफादारी को देखते हुये। मुझे पुनः प्रत्याशी बनाया इस चुनाव में विजय हासिल कर विधान सभा चुनाव जीतकर विधायक निर्वाचित हुए ।